RK TV News
खबरें
Breaking Newsराजनीतिराष्ट्रीय

सुप्रीम कोर्ट ने बीजेपी को कोर्ट की अवमानना का दोषी ठहराने वाला आदेश वापस लिया।

RKTV NEWS/नयी दिल्ली,सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को 2021 के उस आदेश पर पुनर्विचार किया, जिसमें भारतीय जनता पार्टी को 2020 में बिहार विधानसभा चुनाव के दरमियान चुनावी उम्मीदवारों के आपराधिक अतीत के सार्वजनिक खुलासे के संबंध में सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों की अवहेलना करने के लिए अदालत की अवमानना का दोषी पाया गया था। पार्टी के जनरल सेक्रेटरी बीएल संतोष द्वारा दायर पुनर्विचार याचिका को अनुमति देते हुए जस्टिस दिनेश माहेश्वरी और जस्टिस बीआर गवई ने अदालत की अवमानना के लिए भारतीय जनता पार्टी पर लगे एक लाख रुपये के जुर्माने को वापस ले लिया।पीठ ने कहा कि अदालत के आदेश की जानबूझकर अवज्ञा नहीं की गई थी। पुनर्विचार के तहत तहत सुप्रीम कोर्ट की ओर से पारित आदेश का एक हिस्सा था, जिसमें भाजपा को उम्मीदवारों की ओर से आपराधिक इतिहास के विवरण प्रकाशित करने के संबंध में अदालत के निर्देशों की अवमानना में पाया गया था। फरवरी 2020 में, राजनीति में अपराधीकरण के खतरनाक उदय को रोकने के लिए, सुप्रीम कोर्ट ने सभी राजनीतिक दलों को निर्देश दिया था कि वे लोकसभा और राज्य विधानसभाओं में अपने उम्मीदवारों के चयन के 48 घंटों के भीतर या नामांकन के दो सप्ताह के भीतर, जो भी पहले हो, उनके उनके खिलाफ लंबित आपराधिक मामलों का विवरण व्यापक रूप से प्रचारित करें।अदालत ने कहा कि इस जानकारी में उम्मीदवार द्वारा कथित रूप से किए गए अपराध की प्रकृति और जांच या परीक्षण के चरण को इंगित करना होगा। इसके अलावा, सूचना को स्थानीय समाचार पत्रों में प्रकाशित करना होगा, और राजनीतिक दलों की आधिकारिक वेबसाइटों और सोशल मीडिया हैंडल पर अपलोड करना होगा। अगस्त 2021 में जस्टिस आरएफ नरीमन ने पाया कि आठ राजनीतिक दलों ने अदालत के निर्देशों का उल्लंघन किया था और अदालत की अवमानना करने के लिए उन पर भारी जुर्माना लगाया थ। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी पर पांच लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया ‌था। भारतीय जनता पार्टी, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस, जनता दल, राष्ट्रीय जनता दल (यूनाइटेड), भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी और लोक जनशक्ति पर एक-एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया था।पिछले साल नवंबर में सुप्रीम कोर्ट की एक खंडपीठ ने खुली अदालत में, अपने आदेश पर पुनर्विचार की मांग वाली याचिका पर सुनवाई के लिए सहमति व्यक्त की ‌थी, जिसमें उसने अपने पहले के निर्देशों का पालन न करने के लिए राजनीतिक दलों को दंडित किया था। हालांकि सोमवार को बेंच ने बीजेपी को अवमानना के आरोपों से बरी करने का फैसला किया।

Related posts

जिला योजना कार्यकारिणी समिति की बैठक संपन्न!लगभग 10 करोड़ की लागत से 100 से ज्यादा योजनाएं की गई अनुमोदित।

rktvnews

डॉ. मनसुख मांडविया ने टीका अनुसंधान एवं विकास, जी-20 सह-कार्यक्रम पर वैश्‍विक टीका अनुसंधान सहयोगात्‍मक चर्चा को संबोधित किया।

rktvnews

रायपुर : मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री ने शहीद जवान के पार्थिव शरीर को कांधा देकर शहीद के निवास रायपुर-सड्डू के लिए किया रवाना।

rktvnews

नई दिल्ली:पंडिता रमाबाई की जीवनी पर आयोजित हुई गोष्ठी।

rktvnews

उपायुक्त के निर्देश पर जनता दरबार के माध्यम से निदेशक डीआरडीए ने सुनी आमजनों की समस्याएं।

rktvnews

अनुराग सिंह ठाकुर ने चंडीगढ़ में ‘फिल्म प्रमाणन सुविधा कार्यालय’ खोलने की घोषणा की।

rktvnews

Leave a Comment