RK TV News
खबरें
Breaking Newsराष्ट्रीय

केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा- ‘आतंकवाद को अंजाम देने वालों को अंतत: आतंकवाद ही खा जाता है’।

मंत्री नई दिल्ली में शहीद-ए-आज़म भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए “बसंती चोला दिवस” कार्यक्रम में बोल रहे थे।

RKTV NEWS/ नई दिल्ली,22 मार्च।आज नई दिल्ली में शहीद-ए-आज़म भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को श्रद्धांजलि देने के लिए “बसंती चोला दिवस” ​​​​कार्यक्रम में बोलते हुए केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा, ब्रिटिश शासन के आतंक का अंत हुआ क्योंकि आंतरिक विरोधाभासों ने ब्रिटिश राज को आखिरकार भारत से जाने पर मजबूर कर दिया।
23 मार्च 1931 को लाहौर में भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव की पुण्यतिथि के अवसर पर ‘शहीद दिवस’ मनाया जाता है क्योंकि इसी दिन लाहौर सेंट्रल जेल में इन्हें फांसी दी गई थी। शहीद-ए-आजम भगत सिंह को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि भगत सिंह के क्रांतिकारी उत्साह ने ब्रिटिश साम्राज्य को हिला दिया और केवल 16-17 साल बाद 1947 में अंग्रेजों को भारत छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा।
डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा, जब मानवाधिकारों की अवधारणा अस्तित्व में आई थी उससे भी पहले भगत सिंह 20वीं शताब्दी के पहले मानवाधिकार कार्यकर्ता थे। उन्होंने कहा, एक शहीद और स्वतंत्रता सेनानी के अलावा, भगत सिंह एक महान विचारक और दार्शनिक थे और उनके लेखन और विचारों में गांधी और कार्ल मार्क्स दोनों का प्रभाव था।
डॉ. जितेंद्र सिंह ने शहीद भगत सिंह सेवा दल, जिसे एसबीएस फाउंडेशन के नाम से भी जाना जाता है, की भूमिका के सामाजिक कार्यों की प्रशंसा की और रेखांकित किया कि कोविड महामारी के दौरान एसबीएस जमीन पर काम करने वाला एकमात्र दृश्यमान संगठन था।
डॉ. जितेंद्र सिंह ने याद किया कि एनजीओ कोविड-19 महामारी के दौरान अपने अनुकरणीय कार्य के लिए बहुत प्रसिद्ध है, जिसमें कि कोविड-19 के मृत रोगियों के लिए नि:शुल्क शव वाहन सेवा, कोविड-19 संदिग्धों और रोगियों के लिए नि:शुल्क एम्बुलेंस सेवाएं प्रदान करना और कोरोना से मृत मरीजों के लिए उनके मृत शरीर प्रबंधन के साथ-साथ नि: शुल्क दाह संस्कार सेवाएं देना शामिल है।
पद्मश्री से सम्मानित डॉ. जितेन्द्र सिंह शंटी द्वारा 1995 में स्थापित शहीद भगत सिंह सेवा दल जिसे एसबीएस फाउंडेशन के नाम से भी जाना जाता है, दिल्ली एनसीआर में लोगों के लिए आपातकालीन सेवाओं का विस्तार कर रहा है। इन सेवाओं में मृतकों का प्रबंधन, शवों को श्मशान/कब्रिस्तान तक ले जाने के लिए अंतिम संस्कार वैन, वंचितों, लावारिस और परित्यक्त शवों, लोगों को उनके रिश्तेदारों के शवों के घरों में अल्पकालिक संरक्षण के लिए मोबाइल मुर्दाघर रेफ्रिजरेटर, अंतिम संस्कार करने से पहले, स्वैच्छिक रक्तदान शिविर जरूरतमंद लोगों और आपदा के लिए रक्त एकत्र करने और प्रदान करने के लिए प्रबंधन शामिल है।
शहीद भगत सिंह सेवा दल ने 4500 से अधिक कोविड-19 पॉजिटिव शवों का परिवहन और अंतिम संस्कार किया है, जो लावारिस थे या जहां परिवारों को क्वारंटाइन किया गया था या वे गहरे डर में थे और अंतिम संस्कार नहीं कर सकते थे।
इन अनुकरणीय सेवाओं के लिए एनजीओ के अध्यक्ष डॉ. जितेंद्र सिंह शंटी को भारत के राष्ट्रपति के हाथों 2021 में भारत के चौथे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार, पद्मश्री से सम्मानित किया ग

Related posts

उत्तराखंड: मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने निदेशालय स्तर पर इंटिग्रेटेड डाटा बेस हेतु स्टेट रिसोर्स सेन्टर के गठन की स्वीकृति दी।

rktvnews

बक्सर:जिला पदाधिकारी अंशुल अग्रवाल की अध्यक्षता में जल जीवन हरियाली के प्रगति की समीक्षा बैठक आयोजित।

rktvnews

वीर कुंवर सिंह प्रक्षेत्र के कर्मचारियों ने काला बिल्ला लगाकर सरकार की नीतियों का किया विरोध प्रदर्शन।

rktvnews

प्रधानमंत्री ने नगालैंड के लोगों को उनके राज्य स्थापना दिवस पर बधाई दी।

rktvnews

भोजपुर:लैंगिक अपराध एवं हिंसा के विरोध’ विषयक जागरूकता कार्यक्रम आयोजित।

rktvnews

एनएचएआई ने पुलों और अन्य संरचनाओं के डिजाइन एवं निर्माण की समीक्षा के लिए डिजाइन प्रभाग की स्थापना की।

rktvnews

Leave a Comment